खसरा (P-II) व खतौनी (B-I) देखने की विधि